Latest: जानिए अचानक क्यों बढ़ गए उत्‍तर भारत में सब्जियों के दाम, आखिर कब तक होंगे कम | Know why the price of vegetables in North India has increased suddenly, When will the prices be reduced

Latest: जानिए अचानक क्यों बढ़ गए उत्‍तर भारत में सब्जियों के दाम, आखिर कब तक होंगे कम | Know why the price of vegetables in North India has increased suddenly, When will the prices be reduced

पिछले 15 दिनों में सब्जियों के दाम आसमान छू रहें

पहले बता दें पिछले 15 दिनों में उत्तर भारत में सब्जियों की कीमतें बढ़ी हैं। फूलगोभी और मटर जैसी आम सब्जी आम आदमी के लिए पहुंच से बाहर हो गई है। मटर, जो 15 दिन पहले 120 रुपये किलो बिक रही थी अब 150 रुपये प्रति किलो में उपलब्ध है। इसी तरह, फूलगोभी की कीमतें दो सप्ताह के भीतर 50 रुपये से बढ़कर 100 रुपये हो गई हैं। आलू की कीमतों में भी 10 रुपये से 20 रुपये प्रति किलोग्राम की वृद्धि देखी गई है। लोकप्रिय आलू, जो पिछले महीने 25 रुपये से 30 रुपये प्रति किलो बेचा जा रहा था, अब 40 रुपये प्रति किलोग्राम में बिक रहा है। पहाड़ी (हिमाचल) आलू की कीमत में भी 20 रुपये प्रति किलोग्राम की वृद्धि देखी गई है। आलू 30 रुपये प्रति किलो थे अब 50 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। पिछले एक पखवाड़े के दौरान दो आम सब्जियों, प्याज और टमाटर में भी तेजी देखी गई है। प्याज के दाम 20 रुपये प्रति किलोग्राम से बढ़कर 40 रुपये प्रति किलो हो गए हैं। टमाटर के दाम भी 30 रुपये से बढ़कर 50 रुपये प्रति किलो हो गए हैं।

अमिताभ बच्‍चन से शख्‍स ने पूछा- आप दान क्यों नहीं करते, तो बिग बी ने दिया ये करारा जवाब

ये सब्जियां जो अभी भी सस्ती हैं

ये सब्जियां जो अभी भी सस्ती हैं

जहां कुछ सब्जियों की कीमतों में तेजी देखी गई है, वहीं कुछ सब्जियों जैसे सोयाबीन और खीरे की कीमतों में गिरावट आई है। पिछले हफ्ते खीरे के दाम 40 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए थे, लेकिन अब ये 20 रुपये प्रति किलो पर उपलब्ध हैं। सोयाबीन की कीमतें भी 80 रुपये से गिरकर 40 रुपये हो गई हैं। अन्य सब्जियां जैसे बेल मिर्च, हरी मिर्च, बैंगन और लौकी 30 रुपये से 40 रुपये किलो के बीच हैं।

हिंदी दिवस पर टीवी एक्‍टर अनूप सोनी ने किया तंज, पोस्‍ट हुआ वायरल

जानिए क्यों अचानक बढ़ गए सब्जियों के दाम

जानिए क्यों अचानक बढ़ गए सब्जियों के दाम

सब्जी व्यापारी हिमाचल प्रदेश से सब्जियों की कम आपूर्ति बता रहे हैं। उनके अनुसार हिमाचल से सब्जियों की आमद कम होने से सब्जियों के मूल्‍य में बढ़ोत्‍तरी हुई है। कुछ सब्जियां आम तौर पर हिमाचल प्रदेश से सीजन के दौरान आती हैं। मटर, टमाटर, फूलगोभी और आलू हिमाचल से मंगाए जा रहे हैं, जो मांग को पूरा करने में सक्षम नहीं है।”मटर और फूलगोभी हिमाचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति जिले से खरीदे जा रहे हैं। यहां तक ​​कि आपूर्ति कम है और उत्तर भारत के कई शहरों में वितरित किया जाना है। छोटी आपूर्ति के कारण कीमतों में वृद्धि हुई है। टमाटर के साथ कुछ सब्जियां भी हैं।

जानिए कब तक कम कम होंगे दाम

जानिए कब तक कम कम होंगे दाम

“चंडीगढ़ स्मॉल वेजिटेबल ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक गुर्जर ने मीडिया को दिए अपने साक्षात्‍कार में बताया कि खराब मौसम के कारण कम आपूर्ति हो रही है। अशोक गुर्जर ने महाराष्ट्र में मानसून तबाही पर प्याज की आपूर्ति की कमी को जिम्मेदार ठहराया। उन्‍होंने बताया कि “नासिक क्षेत्र में बाढ़ के बाद अनियमित आपूर्ति के कारण प्याज की कीमतें बढ़ गई हैं। उन्‍होंने बताया कि हमें सड़े हुए स्टॉक के साथ कुछ ट्रक मिले हैं”। व्यापारियों को उम्मीद है कि स्थानीय पंजाब और हरियाणा के किसानों से आपूर्ति मिलने के बाद स्थिति में सुधार होगा। हालांकि, कीमतों में कमी आने में एक और पखवाड़े या इससे अधिक समय लग सकता है।

इंडोनेशियाई डांसर ग्रुप के ‘बोलें चूड़ियां’ गाने पर बनाए रिक्रिएट वीडियो ने इंटरनेट पर मचाया धमाल, देखें Video

Source link

Follow and like us:
0
20

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here